तू आबाद है

Life is not ideal. Every aspect of life screams that fact. So it’s better if we understand this fact and face the reality.

We all have this tendency to daydream, live in our own crafted world where we are ever innocent and everything else is flawed. Wake up people, that’s not true.

And do you know the sad part about all this?

Even after we realise that we are doomed, we are stuck in this unfair game of life, we forget that we are perhaps the luckiest of the bunch.

If you feel this, feel what I am trying to say, you will get it.

You are lucky! I am lucky! We all are lucky!

Any thoughts?

 

 

अरे अगर सिर्फ सांस लेना ही जीना होता,
तो बेहोश को होश की जरुरत न थी.
और हर दिन अगर अच्छा होता,
तो फिर बात ही क्या थी.

पर ऐसा नहीं है.

पर ऐसा नहीं है और यही तो बात है,
अरे दुनिया भी दोगली है,
यहाँ दिन है तो वहा रात है.
इसीलिए समझ जाओ अब.

इसीलिए समझ जाओ अब, क्युकि समय बहुत ख़राब है,
यहाँ तो हसने के लिए भी चाहिए होती शराब है.
सब देख के भी अगर सपने में जीता है तू, तो तू बर्बाद है,
फिर भी नहीं जानता कि तू कितना आबाद है.

2 thoughts on “तू आबाद है

  1. यहाँ तो हसने के लिए भी चाहिए होती शराब है.
    सब देख के भी अगर सपने में जीता है तू, तो तू बर्बाद है।

    बहुत खूब। बेहतरीन पँक्तियाँ।👌👌

    Liked by 1 person

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s