एक अनजान शहर

 

एक अनजान शहर मुझे अपना सा लगने लगा है,
पता नहीं क्यों, पर अपनी मंज़िल सा लगने लगा है.
अरे अभी तो आया था में यहाँ,
पर अब तो दिल भी यही का होने लगा है.

इस शहर ने बहुत प्यार दिया,
एक नया जीवन सा दिया,
दोस्तों के नाम पे एक परिवार सा दिया,
एक अजनबी को अपना नाम दिया.

यहाँ इतिहास भी है और भविष्य भी,
प्यार भी है और नफरत भी.
रफ़्तार है और ठराव भी,
दिन में रात और रात में दिन भी.

दिल का है यह शहर,
दिल से ही प्यार होता है.
इसकी हवा में अलग सी है लेहेर,
यहाँ कुछ तो अलग सा बस्ता है.

एक अनजान शहर अब जाना पहचाना सा लगता है,
अरे अभी तो आया था में यहाँ,
यहाँ समय का पता भी नहीं लगता है.
यह वह शहर है जो बात कर सकता है.

6 thoughts on “एक अनजान शहर

    • Oh wow, that’s great. People have a very wrong image about Delhi. All they see is the dark side of it which is there in every city. People should also see the good side, fun side and lovable side of Delhi.

      Agree, there are some issues but that doesn’t rule out the good part of Dilli.

      Liked by 1 person

  1. I totally agree with you on it….. and i always fail to understand why people always focus on negative things….may be it is national capital so things here get more highlighted than other cities…. Thank you 😊😊

    Liked by 1 person

  2. I totally agree with you on it….. and i always fail to understand why people always focus on negative things….may be it is national capital so things here get more highlighted than other cities…. Thank you 😊😊 i m glad to know here are still people too who adore delhi….

    Liked by 1 person

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s