Nightly Fiasco

♦ Hey, it’s almost night time here. Ready for those post 2 a.m. thoughts?

 

As the Sun settles down,

It takes away a part of us.

The part which keeps us sound,

The part which we show to the world.

And when the Moon takes the sky,

It showers a light on us.

Silver light which brings out something…

Something which we don’t discuss.

Night time does have this affect,

And these thoughts are the most private ones.

But when it starts to overwhelm,

Close your eyes and end the pretense.

Eventually sleep will engulf your realm

And in dreams these thoughts will make sense.

If they don’t, tell yourself : “It was just a dream.”

 

 

कुछ अलग सा

If you are a friend, you will know.

wp-1585057624480.jpg

 

 

चल बता वह कौनसी बात है,
जिसका तुझे आज भी एहसास है.
हसी के पीछे कुछ तो है,
दोस्त हु तेरा, इसीलिए मुझे आभास है.

चाल में तेरे आज भी वही रफ़्तार है,
बातो में तेरे आज भी वही ठहराव है,
दिखने में तू आज भी है वैसा,
पर आँखों तेरी कुछ उदास है.

तू सुनता है पर कहता कुछ नहीं,
हसाता है पर खुद हस्ता नहीं,
संभालता है पर खुद सम्भला नहीं,
दोस्त, यह बात तो सही नहीं.

मानता हु तू तकलीफ में है,
छुपाना तू अब सीख गया है.
अगर आज नहीं आया तो कब काम आऊंगा,
दोस्त हु तेरा, शायद तू भूल गया है.

Detox

#Long_Post_on_Mental_Health_and_well_being (with a Poem, obviously)

Today on a sunny day from the distant land of India, I want to speak to my readers about their mental health. I cannot consult you on your physical health because I am not a doctor of any sorts but what I am is a Human being who understands the importance of communication and words.

So Hi to you sitting in the Western Hemisphere and to you in the region above the equator. Hello to those who are with me on this side of the planet and Howdy to those in the region below, I hope I have covered everyone. I know some of you are going through a phase and that phase is dreadful. But, just like every problem and situation, this too has a solution. DETOX! 

You amazing people, you all need to realise that sometimes the misery is not because of anything that you did but only because your mind wants a break. So, first let me tell you when you should think about Detox… (Read the lines below)

 

When the mind seizes and thoughts go wrong,

Spring freezes and noisy seem the song,

Anxiety increases and nights go long,

Nothing pleases and nothing comes along,

Food seems bitter and unpleasant,

Friends seem disturbance even when they are present,

Even a small appreciation seems like flattery,

And everything just looks dull in its entirety,

It is then when you need to Detox.

 

Now the Question comes, how to Detox?

That’s simple actually. Detox means to do what you love. Like absolutely unconditionally LOVE. It could be reading, writing, painting, dancing, travelling, working out, eating food, cooking, watching movies and the list can go on and on and on.

Pick your hobby/passion and just go with it. Just like you body, give a quiet time to you mind as well.

And one thing we don’t hear enough, In case you need to talk, just share with someone. It helps, trust me.

You can even share them with me over mail in case you feel like opening up or just talking.

–> nishant1994gang@gmail.com

 

So, wishing all my soon to be happy and energized readers a Very Good Day!

Let’s do this!

चाहे जो भी हो

Just smile at the end of the day, that’s all. It’s that simple.

यह कहानी उसकी है जो कभी हारा नहीं,
एक ऐसा शख्स जिसे कोई समझ पाया नहीं.
यह किस्सा है उसका जो आज भी है कही,
कौन है और कहा है वह बात जरूरी नहीं.

कठिनाइया उसने भी बोहत है उठाई,
पर फिर भी चेहरे से हसी उसने नहीं गवाई.
हर रात तारो के सामने हुई उसकी सुनवाई,
पर वह सिर्फ मुस्कुराया, यह बात न समझ आई.

ऐसा नहीं है की उससे ज़िन्दगी ने घसीटा नहीं,
चोट उससे भी लगी, आंसू उसके भी बहे.
पर फिर भी वह उस रस्ते वापिस गया,
क्युकी उसकी मंज़िल वही थी कही.

यह कहानी उसकी है जो कभी हारा नहीं,
चाहे जो भी हो दिन के आखिर में वह मुस्कुराया कही.
क्युकी हार को उसने अपनाया ही नहीं,
उसने खुद को समझा क्युकी दुसरो को कोई समझ पाया नहीं.

Finding the lost

To all those who love to get lost and find something new about themselves, I urge you to get up and just take the road less travelled.

 

 

~A fellow traveller.

अकेला कौन है?

Alone, being lonely is as they say, a state of mind.

Let me prove it to you.

 

 

अकेला कौन है?
जब भी किसीने कुछ नया करना चाहा
वो अकेला रहा.
जब भी किसीने अपने मन से जीना चाहा
वो अकेला रहा.
जब भी किसीने अपने आप से सच कहा
वो अकेला रहा.
जब भी किसीने सच सुन्ना चाहा
वो अकेला रहा.

अकेला क्यों रहा?

दुनिया के कुछ नियम और कानून है,
जो मानता है बस उसे ही मालूम है,
खुद को अगर आईने में देख सकते हो तोह,
बात मेरी तुम्हे मालूम है.

अपने शर्तो पे जीना सीखा,
अपनी बात को कहना सीखा,
जो सही लगा वही पूछना सीखा,
बिना झिजक के उड़ना सीखा.

किया वही जो मान से आया,
सुन्ना उसी को जिसको हमने समझाया,
सही चलने की कोशिश में कही,
अपने आपको अकेला पाया.

अकेला हुआ पार अकेला नहीं था,
साथ कभी कम नहीं था,
जब सन्नाटा छाया चारो और,
दर लगा पर साथ वही था.

साथ कौन था?

साथ थी मेरे वो यादें,
वो नजाने कितनी सीख और बाते,
बचपन से जो संजोया था वो,
आईने से करता था बाते.
में अकेला पड़ा पर में नहीं गया
काफी कुछ सहा और काफी कुछ कहा,
बेकार फ़िज़ूल का दर था मेरा,
क्युकी में खुद को ही भूल गया.

अकेला कौन है?
अकेला कोई नहीं, अकेली सोच है.
विकलांग करने वाली चोट है.
जब भी लगे अकेलापन सा,
खुद को ढूँढना बाकी सब खोट है.