Category Archives: Depression

कुछ अलग सा

If you are a friend, you will know.

wp-1585057624480.jpg

 

 

चल बता वह कौनसी बात है,
जिसका तुझे आज भी एहसास है.
हसी के पीछे कुछ तो है,
दोस्त हु तेरा, इसीलिए मुझे आभास है.

चाल में तेरे आज भी वही रफ़्तार है,
बातो में तेरे आज भी वही ठहराव है,
दिखने में तू आज भी है वैसा,
पर आँखों तेरी कुछ उदास है.

तू सुनता है पर कहता कुछ नहीं,
हसाता है पर खुद हस्ता नहीं,
संभालता है पर खुद सम्भला नहीं,
दोस्त, यह बात तो सही नहीं.

मानता हु तू तकलीफ में है,
छुपाना तू अब सीख गया है.
अगर आज नहीं आया तो कब काम आऊंगा,
दोस्त हु तेरा, शायद तू भूल गया है.

An addict

Addicts are already struggling, don’t add to their misery.

It’s not that I am scared of the reality,

I tried my best but I failed.

This burden with whom I cannot agree,

Has led me to become an addict, jailed.

Instead of a bail, I hear virdict,

Even from those who aren’t even a judge.

Failing miserably doesn’t make me a convict,

For I did try, I did drudge.

My time seems near for I have walked far,

But even misery can make you wise.

Next time you see an addict in a bar,

Don’t judge but look into their eyes.

~Audio to come soon.