Poet

Let’s us make a promise to ourselves, a promise to reduce our habit of fixating of things, events, people or past. Dear reader, if you fixate on something you tell your mind to stop welcoming the new. New which can actually be better and true is therefore asked to go away and we struggle with the way we stay.

So, again stressing on the importance of mental health and well-being, let’s stop fixating. Let’s wake up fresh every morning and just like a fresh page in a diary, allow ourselves to scribble a new story or art or poetry or any other of the 1000 brilliant gifts of life.

Read to know…know to read.

Fixated mind asphyxiates,

Turning one into a sheep.

Mind, who absorbs and creates,

When fixated falls asleep.

Novelty just like in dates,

In thoughts helps to leap.

Fixated mind is a dead weight,

Either wake up fresh or might as well just sleep.

Break the loop of thoughts,

Let bygones be bygones.

Allow new stories, experiences, and plots,

And try knowing more about the unknowns.

More you accept the newer lessons,

Finer and stronger your story will be.

Dwelling is the sign of depression.

Fixated mind ceases to be.

Alone, being lonely is as they say, a state of mind.

Let me prove it to you.

 

 

अकेला कौन है?
जब भी किसीने कुछ नया करना चाहा
वो अकेला रहा.
जब भी किसीने अपने मन से जीना चाहा
वो अकेला रहा.
जब भी किसीने अपने आप से सच कहा
वो अकेला रहा.
जब भी किसीने सच सुन्ना चाहा
वो अकेला रहा.

अकेला क्यों रहा?

दुनिया के कुछ नियम और कानून है,
जो मानता है बस उसे ही मालूम है,
खुद को अगर आईने में देख सकते हो तोह,
बात मेरी तुम्हे मालूम है.

अपने शर्तो पे जीना सीखा,
अपनी बात को कहना सीखा,
जो सही लगा वही पूछना सीखा,
बिना झिजक के उड़ना सीखा.

किया वही जो मान से आया,
सुन्ना उसी को जिसको हमने समझाया,
सही चलने की कोशिश में कही,
अपने आपको अकेला पाया.

अकेला हुआ पार अकेला नहीं था,
साथ कभी कम नहीं था,
जब सन्नाटा छाया चारो और,
दर लगा पर साथ वही था.

साथ कौन था?

साथ थी मेरे वो यादें,
वो नजाने कितनी सीख और बाते,
बचपन से जो संजोया था वो,
आईने से करता था बाते.
में अकेला पड़ा पर में नहीं गया
काफी कुछ सहा और काफी कुछ कहा,
बेकार फ़िज़ूल का दर था मेरा,
क्युकी में खुद को ही भूल गया.

अकेला कौन है?
अकेला कोई नहीं, अकेली सोच है.
विकलांग करने वाली चोट है.
जब भी लगे अकेलापन सा,
खुद को ढूँढना बाकी सब खोट है.

In the world of freedom and social media, I find it funny that people are facing more and more difficulty in expressing themselves. The constant fear of being judged and being looked down upon has made an entire generation a closed book.

Most common cause of depression is the absence of proper emotional outlet.

Something is not right, and I guess we all know what that something is. Let us encourage each other to speak our hearts out. Speak up, let your feelings to come out into the world and make sure you do the same for others.

I dealt with a problem similar to this some time back and it is daunting. A poet who plays with words looking for ways to express himself is both funny and sad at the same time.

I promise to be an ear for all those who need to speak for I know how important it is to speak up and get heard.

The Poet and the Pen is all ears and will be always there if someone needs an ear. But for now, let me tell you what I want everyone to hear. Come, I need to tell you something.

 

एक बात बताता हूँ

आओ तुम सबको एक बात बताता हूँ,
जो दिल में है उससे जुबान से सुनाता हूँ,
जीवन का मंत्र या कोई सीख नहीं,
बस अपने मन की बात कहना चाहता हूँ.

आसान नहीं है यह.

आसान नहीं है यह, मन की बात.
गलत का पता नहीं पर सही पे भी चोटिल होते है जज़्बात,
कब तक ध्यान रखु में?
क्यों न अपने मन की बात करू में?

किसीको बुरा न लगे तो एक बात कहना चाहता हूँ,
किसीको बुरा न लगे तो यह साफ करना चाहता हूँ,
यह मेरे दिल की बात है, इससे आपका कोई नाता नहीं,
सुन सको तो सुनने क्युकी में तुम्हे बुलाता नहीं.

कहने दो जिसे जो कहना है,
उसके मन की बात है.
नहीं होता तो क्यों सुन्ना है,
बात तो सिर्फ जज़्बात है.

आओ एक बात बताता हूँ,
बोलने की आज़ादी मांगता हूँ,
कौन क्या सोचेगा नहीं पता पर,
दर्द होता है जब अपनी बात कह नहीं पता हूँ.

This letter is to you. Yes, all of you.

Regardless of time, date, year or nation, this Letter will always be true. I have often wondered what is eternal, actually nothing but just words. Hope you like it. If you do, write a letter yourself. 😉

Read to know…know to read

An open letter on an eternal date,

Wishes to end and start a debate.

Keeping aside the prejudiced love and hate,

Yours Sincerely, Fate.

Hope you are doing well,

If yes, Kudos!. If no, then please tell.

Letters are ways to end what dwells,

Fate writes only spells.

Based on the memory of human history,

Either you are fiction or a mystery.

Regardless, you are trying to find your own trajectory,

Write to me, Fate, and seek victory.

I wish you to write and thereby be written,

I am your creation which you have forgotten.

Write letters like the one you just read,

Fate is crafted it is said.

Only you can know your trait,

Only you know what makes you great,

You decide the time and date,

I will meet you there. Yours Sincerely, fate.

ख्वाइश = Wish. Wish is what we all do, but wish is never true.

Read to know…know to read.

English version to come soon. 🙂

मेरी एक ख्वाइश है
जिसमें छिपी कुछ फरमाइश है
न जाने क्या गुंजाईश है
कुछ तो है जिसकी रिहाइश है.

ख्वाइश क्या है?

हर वह चीज़ जो मेरे पास नहीं,
मुझे उसकी ख्वाइश है.
हर वह गुण जिसका मुझे एहसास नहीं,
मुझे उसकी ख्वाइश है.
हर वह बात जिसमें मेरी आवाज नहीं,
मुझे उसकी ख्वाइश है.

जो भी हमारे पास नहीं, हमे उसी की ख्वाइश होती है.
जानकार होते हुए भी जो हम न माने, वही से इसकी शुरुवात होती है.

ख्वाइश क्या होती है?

ख्वाइश वह है जो सच नहीं,
सच का मुखौटा पेहेनके आती है.
और सच वह है जो ख्वाइश नहीं,
जीवन का सार बन जाती है.

ख्वाइश वह है जो हमसे यह कहती है, “अभी तुम लायक नहीं”
लायक बनन्ना पड़ता है, ख्वाइश की कोई बात नहीं.
जो ठान लो उससे सपना बना लो,
सपनो की कोई रात नहीं,
मेरी ख्वाइश यही रहेगी,
सपने पूरे कर सकू, फर्याद नहीं.

Just remember, it is alright.

 

 

A game is what comes to mind,

Rules of which aren’t very clear.

Spectators perception is what the players find,

Validation is the sign of fear.

Game is called Decisions.

For every turn we roll the dice,

3 sides Wrong and 3 Right.

Yet we fail for we think twice,

Every Decision is perfect from one particular sight.

Your Sight.

Whatever happens there is a reason,

Following your choice is no act of treason,

Life should be carved out as per your precision,

There is nothing Wrong or Right but the situation.

After over two years of Blogging in English, I am here to surprise my readers…

I do not only write Poems in English, I have another side to my Poetry.

Hindi Poetry…

Yes, for the first time let me show you my creation in Hindi and to all the Non-hindi folks, I request you to please listen the audio and feel the beauty of my mother tongue, the beauty of this evergreen Indian Language.

So, with love and creativity from this beautiful land of Hindustan (India), read to know…know to read, A Poem in Hindi.

क्या लगता है?

जाने अनजाने में बिना जाने, तुमने कहा..
में गलत हूँ.
बात हमारी बिना सुने बिना माने, तुमने कहा…
में गलत हूँ.

क्या लगता है, सही हूँ या गलत?

जो कोई नहीं जनता वह तुम जानते हो,
अपने ही सच को सही मानते हो,
सुनवाई से पहले फैसला सुनाते हो,
आधे सच की कहानी बनाते हो.

क्या लगता है?

एक बार तो पूछा होता,
शायद सही कोई दूजा होता,
आज न सब इतना उलझा होता,
यह किस्सा न अधूरा होता.

हमारी सबसे बड़ी गलती यही है,
हमे लगता है हम हमेशा सही है.
जिसने जो कहा अगर उसकी पहचान वही है,
तो मुझे लगता है, गलती यही है.

सच का कोई रूप नहीं होता,
सच सिर्फ सच होता है.
सच ढूंढ़ते तोह शायद में न खोता,
आधा सच कभी पूरा नहीं होता.

 

  • Never make out the whole story by knowing only half the truth.