Deafening

There are days when I just don’t listen

To anything that is going around.

All I feel is that something is missing,

Something which must be found.

And as I try to end the search,

I simply keep on finding

My own unfinished thoughts

Whose sound has been deafening.

 

 

~ If you have ever felt the same, tell me about it.

सफर

Almost all the time I see that people work to achieve something. They work hard and in the end either they fail or they feel discontent after reaching said Goal.

This happens because we don’t really think things through. So before you start for your goal, just make sure that you really want it.

 

 

फिर से चल पड़ा है तू उस सफर पर
जहा तुझे बस मंज़िल की आस है.
फिर से चल पड़ा है तू उस सफर पर
जहा तुझे बस मंज़िल की आस है.

और फिर से भूल गया है तू,
के रास्तो में ही मिलती जीत या हार है.

किसी और की मंज़िल को तूने अपना समझ
अपने आप को धोका दिया
किसी और की मंज़िल को तूने अपना समझ
अपने आप को धोका दिया

चलने से पहले एक बार तो पूछ लेता,
तूने वही मंज़िल को क्यों चुना?

कामियाब हो तू हर सफर पे
दुआ यही रहेगी मेरी.
कामियाब हो तू हर सफर पे
दुआ यही रहेगी मेरी.

पर उस कमियाबा का क्या लाभ
जहा ख़ुशी नहीं है तेरी.

फिर से चल पड़ा है तू उस सफर पर
जहा तुझे बस मंज़िल की आस है.
निकलने से पहले जरूर पूछ लेना खुद से,
वह क्या है जिसकी तुझे सच में तलाश है.

आजकल

Somewhere down the line humans failed humanity.

 

 

यार क्या हो गया है हममे?
तेहज़ीब कहा गई हमारी?
शर्म आती है ऑनलाइन आने में,
सोच इतनी घिनौनी होगयी है हमारी.

आज जहा पूरा देश, पूरी दुनिया
अच्छा बनाने की कोशिश कर रही है,
घिन आती है जब पढता हूँ सुर्खिया,
इतनी घटिया सोच कहा से जन्म रही है?

सोच से ही सच होता है,
गन्दी सोच गन्दा कल लाएगी.
सिवाई अफ़सोस के अब कुछ नहीं होता है,
नजाने नई सोच कब आएगी?

कुछ कहना चाहता हूँ,
उन सब से जो मुझे सुन रही  है.
फ़िलहाल आप सबसे माफ़ी मांगना चाहता हूँ,
गलत आप नहीं, यह सोच है. इस सोच को बदलना बहुत जरुरी है.